रविवार, 7 अगस्त 2011

ये दोस्ती हम नहीं ..........!

बहुत सोचने पर ये घटना याद आई कि ऐसे भी दोस्त होते हैं जिन्हें अपने दोस्त के लिए कुछ भी कर गुज़रने में सोचने की जरूरत नहीं होती
विजय बहुत दिनों के बाद अपने कस्बे लौटा था क्योंकि अब उसके पिता या और घर वाले यहाँ पर नहीं रह गए थे बस एक दोस्त था और उसकी माँ थी जिसने अपनी माँ के मरने पर उसे दीपक की तरह ही प्यार दिया था स्टेशन पर लेने के लिए विजय को दीपक ही आया था क्योंकि उसे विजय से मिले हुए बहुत वर्ष बीत गए थे अब दोनों ही रिटायर्ड हो चुके हैं विजय ने ट्रेन से उतरते ही दोनों हाथ फैला दिए गले लगाने के लिए और यह भूल गया कि दीपक का एक हाथ कटे हुए तो वर्षों बीत चुके हैं एक पल में दीपक की कमीज की झूलती हुई आस्तीन ने उसको जमीन कर लेकर खड़ा कर दिया
बीस साल से पहले की बात है दीपक ट्रेन से गिरा और उसका हाथ काट गया तब छोटी जगह में बहुत अधिक सुविधाएँ नहीं हुआ करती थीं और ही हर आदमी में इतनी जागरूकता थी वह कई महीने अस्पताल में पड़ा रहा और उसका इलाज चलता रहा घाव भरा नहीं रहा थाफिर पता चला कि सेप्टिक हो गया हैतब जाकर डॉक्टर सचेत हुए लेकिन उस कस्बे में वह इंजेक्शन नहीं मिल रहा था बल्कि कहो पास के शहर में भी उपलब्ध नहीं थाउस समय फ़ोन अधिक नहीं होते थेविजय दूर कहीं चीफ इंजीनियर था , खबर उसके पास ट्रंक कॉल बुक करके भेजी गयी शायद वह वहाँ से कुछ कर सकेबस वही एक आशा बची थीविजय ने खबर सुनते ही अपने एक मित्र को बम्बई में फ़ोन करके उस इंजेक्शन को हवाई जहाज से भेजने को कहाजैसे ही उसे इंजेक्शन मिला वह अपनी गाड़ीऔर एक ड्राइवर लेकर निकल पड़ासफर बहुत लम्बा था इसलिए एक ड्राइवर साथ लिया था१४ घंटे की सफर के बादविजय दीपक के पास पहुंचा था
'डॉक्टर इसको कुछ नहीं होना चाहिएअगर आप कुछ कर सकें तो अभी बताएं मैं इसको बाहर ले जाता हूँ।'
'नहीं, इस इंजेक्शन से हम कंट्रोल कर लेंगेअगर ये अभी भी मिलता तो हम नहीं बचा पाते।'
दीपक बेहोशी में जा चुका थादो दिन बाद वह होश में आया तब खतरे से बाहर घोषित किया गयाहोश मेंआने पर उसने विजय को देखा - 'अरे तू कब आया।'
'दो दिन पहले, तू अब ठीक है ?'
'अरे मैं तो तुझे आज ही देख रहा हूँ।'
'तूने इससे पहले आँखें कब खोली थीं।' विजय उसका हाथ पकड़ कर बैठ गया था
विजय को दीपक की पत्नी , बच्चे और माँ ने दिल से दुआएं दी कि अगर उसने इतना किया होता तो शायद दीपक????????।
ये भी यथार्थ सच है कि मित्र वही है, जो अपनी मित्रता को धन और स्तर से आंके

9 टिप्‍पणियां:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
शुभकामनाएँ!

वाणी गीत ने कहा…

मित्र वही है, जो अपनी मित्रता को धन और स्तर से न आंके।
बिलकुल सच !

anu ने कहा…

दोस्त ही दोस्त के काम आता है ....आपने लिखा....और हमने तो ये महसूस किया है ...रेखा दी ....आज भी बहुत से दोस्त ...दोस्ती की मिसाल है

आभार आपका ये लेख सबके साथ साँझा करने के लिए

वन्दना ने कहा…

यही होती है सच्ची मित्रता।

संजय भास्कर ने कहा…

आदरणीय रेखा जी
नमस्कार !
आज भी बहुत से दोस्त ...दोस्ती की मिसाल है
..........दिल को छू लेने वाली प्रस्तुती

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुति ...असली मित्रता ऐसी ही होती है ..

Dr Varsha Singh ने कहा…

फ़्रेंडशिप डे पर अच्छी प्रस्तुति के लिए आभार...

SAJAN.AAWARA ने कहा…

Kuch dost ese hote hain ki lagta hai wo janmo se hmare sath hain....

Jai hind jai bharat

sushma 'आहुति' ने कहा…

happy friendship...