बुधवार, 2 अगस्त 2017

राखी का तोहफा !

                   नितिन को निधि की बहुत चिंता हो रही थी कि प्रसव के बाद कैसे सभाँल पायेगी वह दो दो बच्चों को ? उसका दिमाग चारों तरफ दौड़ रहा था कि आखिर किसको बुलायें ?  माँ बीमार रहती है , बहनों के अपने परिवार हैं और बच्चे पढ़ने वाले हैं । संयुक्त परिवार में बचपन जिया था तो प्यार तो सभी को आपस में था लेकिन हालात की मजबूरी ! कई दिनों तक सोचने के बाद उसे अपनी चचेरी बहन निभा का ख्याल आया ।
            निभा दी की शादी को दस साल हो गये थे लेकिन वह माँ नहीं बन पायी । पति के सहयोग से वह उस घर में थी ,.नहीं तो ससुराल वालों ने तो कब का घर से निकाल दिया होता । बाँझ का तमगा पहने वह घर के बोझ को ढोने वाली एक नौकरानी थी । 
       नितिन ने अपने जीजाजी से बात की - 'दी बहुत दिनों से आई भी नहीं है और निधि को किसी बड़े की जरूरत भी है ।' 
        निभा के पति ने स्वीकृति दे दी । नितिन निभा को लेने गया तो निभा की सास का कटाक्ष - 'इस बाँझ को लिए जाते हो , अरे इससे तो अच्छा कोई नौकरानी रख लेते । '
       नितिन ये तो जानता था कि निभा दी की सास बहुत तेज हैं लेकिन उसके सामने ही उनके लिए ऐसा बोलेंगी उसे उम्मीद नहीं थी । वह निभा को लेकर चुपचाप चला आया ।
   समय पर निधि ने दो बेटों को जन्म  दिया , जिनमें एक बहुत कमजोर था उसके बचने की उम्मीद बहुत कम थी । डॉक्टर ने उसे वहीं अपनी देखरेख में रखा । निधि एक बच्चे को लेकर घर आ गयी । बच्चे के लिए निभा ने घर आने से इंकार कर दिया । वह अस्पताल में ही एक बेंच पर बैठी रहती , डॉक्टर से हालचाल पूछती रहती और भगवान से दुआ -- ' हे ईश्वर तूने मेरी नहीं सुनी लेकिन उस माँ के लिए , जिसने इतना कष्ट सहा है  , इस बच्चे को जीवनदान दे दे ।'
     पंद्रह दिन बाद उसकी प्रार्थना रंग लाई और बच्चे को घर भेज दिया गया । घर में सभी उसकी सराहना कर रहे थे । उस बच्चे की पूरी देखभाल निभा ही करती थी ।
       आखिर पति का संदेश आया कि अगर सब कुशल मंगल हो तो वह वापस आ जाये । नितिन बोला - ' अब एक हफ्ते बाद रक्षाबंधन है दी , बहुत दिनों से कोई नहीं आया । अब राखी बँधवा कर ही भेजूँगा ।
          नितिन ने रक्षाबंधन तक रोकने की अनुमति जीजाजी से भी ले ली । रक्षाबंधन के बाद निभा को छोड़ने के लिए नितिन तैयार हुआ तो निभा के बैग के अतिरिक्त एक बैग और था । निभा निकलने लगी तो निधि देवांश को लेकर आई और निभा की गोद में दे दिया । निभा उसे छोड़कर जाने की बेला आने पर  सीने से लगा कर रो पड़ी ।
    नितिन ने निभा की पीठ पर हाथ रखा और बोला - ' दी रोइए मत , देवांश आपकी राखी का तोहफा है , इसे जीवन आपने दिया है और अब आपका बेटा है ।' 
       निभा को लगा कि वह क्या सुन रही है ?  उसने देवांश को सीने से कस कर चिपका लिया ।