सोमवार, 13 अगस्त 2012

एक पहलू ये भी !

                मुझे पता चला की नीति की शादी पक्की हो गयी है और कोई भी रस्म नवरात्रि में की जाएगी  और मैं उसके घर गयी क्योंकि ये मेरे लिए अपनी बेटी की शादी तय होने से कम ख़ुशी देने वाला न था। ये यथार्थ ऐसा है जिसको शायद कोई विश्वास न कर सके लेकिन मानव मन की प्रवृत्तियां कब और कैसे अपना स्वरूप बदल कर  सामने आने लगे कह नहीं सकते हैं। ये यथार्थ है और मेरे सामने गुजरा हुआ एक यथार्थ है :

                       नीति ने बचपन से ही रोहन को अपने बड़े भाई के मित्र के रूप में घर में पाया था और उसको भी अपने भाई की तरह ही मानती रही। रोहन भी नीति के लिए उसके अपने भाइयों से अलग कभी नहीं मानती थी चाहे राखी हो या फिर उसको कहीं जाना हो रोहन के साथ चली जाती क्योंकि नीति के पिता नहीं थे और उसके परिवार में 3 भाई, एक वह और  विधवा माँ  थी। कोई आर्थिक मदद करने वाला नहीं था क्योंकि उसके पिता ने अंतरजातीय विवाह किया था सो उसके पिता को परिवार वालों ने पहले ही घर से निकाल  दिया था। एक स्कूल से लगे हुए सर्वेंट क्वार्टर में उसकी माँ अपने परिवार को साथ लेकर रहती थी। वह स्कूल एक अल्पसंख्यक वर्ग के व्यक्ति था और एक बार दंगा होने पर नीति के माँ ने  परिवार को अपने घर में शरण दे  कर  बचाया था और उसी अहसान को मानते हुए उन लोगों ने तय किया था कि  वे उनके जीवन में कभी उस मकान को खाली नहीं करवाएंगे। उसके तीनों भाई में से कोई भी पढ़ लिख न सका था। माँ की पेंशन और भाई कहीं कुछ कर लेते तो घर में ले आते। कोई भी स्थायित्व की स्थिति में न था और न ही कोई जिम्मेदार था। 
                      जब बचपन में नीति बीमार पड़ी तो रोहन उसको गोद में उठा कर मंदिर मंदिर जाता कि  मेरी बहन ठीक हो जाए और वह ठीक भी हुई। उसकी पढाई में कहीं भी कमी पड़ती तो वह सहायता कर देता क्योंकि वह एक बड़े पैसे वाले पिता का बेटा था। उसके पिता भी नीति को अपनी बेटी की तरह ही मानते थे। 
                      वक़्त के साथ रोहन के पिता अचानक चल बसे और उनकी नौकरी रोहन को मिल गयी। वह नौकरी करने लगा तो उसको नीति की पढाई में सहायता करने में कोई संकोच न रहता .उसने इंटर के बाद आगे डाक्टरी के पढाई के लिए कोचिंग करनी शुरू की और फिर उसका चयन हुआ किसी दूसरे कोर्स  के लिए , उसे बाहर जाकर पढ़ना था और उसके लिए उसे लोन की जरूरत पढ़ी। उसके घर में ऐसा कोई भी न था जिसके आधार पर बैंक उसको लोन दे देती। आखिर रोहन ने अपनी नौकरी के आधार पर उसको लोन दिलवा दिया। इसी बीच रोहन की शादी हो गयी और एक बेटी भी। नीति ने अपनी पढाई पूरी करने के लिए जी तोड़ मेहनत  की ताकि उसको निकलते ही नौकरी मिल जाए  
                     उसकी पढाई पूरी हुई और उसको नौकरी भी मिल गयी लेकिन लोन बहुत था उसको देने में वर्षों लगने थे।लेकिन नौकरी के एक दो साल बाद ही लोगों ने उसकी शादी के सवाल करने शुरू कर दिए। जब भी शादी की बात चलती रोहन ये सवाल उसके सामने रख देता की पहले लोन पूरा करो उसके बाद शादी करना क्या पता तुम्हारे ससुराल वाले इसको देने दें या नहीं . ये लोन मेरी नौकरी के कारण मिला है इसलिए अगर तुम नहीं दोगी  तो मेरे वेतन से कटता रहेगा . नीति ने उसको वचन दिया की वह शादी लोन क पूरा करने के बाद ही करेगी , इधर रोहन का व्यवहार नीति के प्रति बदल गया था। एक दिन उसने उसके पास जाकर कहा कि  तुम मुझसे शादी कर लो। मैं पूरा लोन भर दूंगा . नीति तो जैसे आसमान  से नीचे गिरी उसको विश्वास ही नहीं हो रहा था कि  ये रोहन भैया बोल रहे हैं।
                    फिर फोन से और बार बार मिलकर यही बात दुहराता रहा। एक दिन नीति ने कहा की हाँ करूंगी लेकिन पहले अपनी पत्नी को तलाक दो। उसने कहा की वह ये नहीं कर सकता है वह यही पर नौकरी करती रहे और वह शादी करके उसके पास आता रहेगा। वह समझदार लड़की थी , उसने अपनी शर्तें सामने रखी कि  वह इस बात को अपनी पत्नी और मेरे घर वालों के सामने इसी तरह से कह दें तो वह उसके अहसान के बदले अपना जीवन दांव पर लगाने के लिए तैयार है। उसे बचपन से लेकर  अब किये गए अहसान का  बदला चुकाने  के लिए ये भी  मंजूर  है। रोहन ऐसा कर नहीं सकता था . आखिर नीति ने तय किया कि  वह शादी तभी करेगी जब रोहन के लोन को भर लेगी और उसने अपने जीवन की धारा  बदल दी।  उसने रोहन से दूरियां बना लीं  उसके सामने रोहन का ये एक और चेहरा दिखा था वह उसे तोड़ने के लिए काफी था। 
                             उसने अपनी शादी के तय होने से पहले अपने ससुराल वालों को बता दिया की उसके ऊपर लोन है जिसे पूरा  करने के बाद ही वह अपनी नौकरी छोड़ कर ससुराल में आकर रह पाएगी अगर उसको मंजूर हो तो वह लोग हाँ करें और शायद जीवन के शुरू से ही कष्ट और अभाव देखने वाली नीति के जीवन का नया अध्याय सुखमय ढंग से शुरू होना  था और उन लोगों ने उसकी बात मान ली।
                             

5 टिप्‍पणियां:

expression ने कहा…

रिश्तों से पेचीदा कुछ नहीं...दिल से बड़ा खिलाड़ी और कोई नहीं....ज़िन्दगी से बड़ा इम्तिहान कोई है क्या????

काश सब भला उस बच्ची के साथ.
सादर
अनु

sushma 'आहुति' ने कहा…

behtreen post....

Kailash Sharma ने कहा…

अंतर्मन की पेचीदिगियां कई बार समझ से बाहर होती हैं. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…

पुरुष मन का विश्वास करना एक ख़तरा मोल लेना है -सतत सावधानी अपेक्षित !

वाणी गीत ने कहा…

निस्वार्थ रिश्ते कब स्वार्थ की बलिवेदी पर चढ़ जाये , कहा नहीं जा सकता !