सोमवार, 12 मार्च 2012

पूत न भये सपूत !

इसे मजाक समझिएगा , एक यथार्थ है ऐसा जिसे अपनी आँखों से देख रही हूँ और हमारे समाज की दकियानूसीपन के मुँह पर एक करारा तमाचा भीहमारे समाज में एक पुत्र होने पर वंश का नाम चलता रहेगा ये अवधारणा आज भी पूरे जोर शोर से बाकी हैफिर हमसे एक पिछली पीढ़ी भी इससे कहीं अधिक सोचती रही है कि वंश का नाम डूब जाए भले ही वंशज कहीं और जाकर रहें और यहाँ कोई नाम लेवा रहे
मेरी एक सहेजी जो उरई में मेरे साथ १९६९ में ग्यारहवीं तक ही पढ़ी
फिर उसके बाद उसके पापा का ट्रान्सफर इटावा हो गया और वह चली गयीउस समय उसके पापा कोर्ट में किसी अच्छी पोस्ट पर थेहमारे बीच १९७२ तक ही संपर्क रहा और उसके बाद उसकी शादी जल्दी कर दी गयी और हम अलग हो गए कोई खोज खबर नहीं रहीजब वह उरई से गयी थी उसके दो भाई और दो बहन थीपिता कई भाई थे सो उन्हें दो बेटों में संतोष हुआ और उसकी शादी के बाद उनके घर में दो बेटे और दो बेटियाँ और हुईंअपने रिटायरमेंट के बाद तक उन्होंने बेटों की इच्छा पूरी कीचार सपूत हुएलेकिन सपूत तो क्या कोई पूत भी निकल पाया
कुछ इत्तेफाक ऐसा था कि जब उसका बेटा पढ़ लिख कर इंजिनियर बन गया तो उसने मेरे बारे में बताया और कहा कि नेट पर खोजो शायद कहीं मिल जाए और इत्तेफाक से वाकई मैं उसको मिल गयी और फिर मेल के जरिये ३३ साल बाद हम एक दूसरे की खबर ले सके और फिर मिल भी सके क्योंकि उसकी मम्मी कानपुर में ही रहती थीं
जब उससे मुलाकात हुई तो पता चला कि हमारे अलग होने के बाद उसके पापा ने और परिवार बढाया था कि उसका नाम दूर दूर चलता रहेगालेकिन अफसोस उनके चारों बेटों में कोई इतना भी नहीं पढ़ा कि वे कहीं नौकरी कर लेतेमाँ जीवित थीं तो उनको पेंशन मिलती थी और एक बहन तलाकशुदा थी जो सबके लिए खाना बनाया करती थी और माँ की सेवा करती थीबेटे अपने जेब खर्च भर के लिए इधर उधर करके कुछ कमा लेते थे लेकिन रोटियां तो माँ को ही खिलानी पड़ती हें
फिर एक साल के अन्दर उसकी माँ का स्वर्गवास होगया और बहन तो जैसे उनके लिए ही जी रही थीमाँ के १५ दिन बाद बहन चल बसीघर में कोई रोटी बनाने वाला थाचार बेटे उनकी किसी की भी शादी हुई थीसिर छुपाने के लिए घर माँ के नाम था सो सब रह भर सकते थेपिता परिवार तो बढ़ाते रहे कि वंश चलता रहे लेकिन उन वंश चलाने वालों के लिए कुछ भी सोचा कि इनका भविष्य बनाया तो क्या होगा? बेटियाँ तो उन्होंने अपने जीवन में ही ब्याह दी थी , उसमें से भी एक का तलाक हो गया था
कल उसका फ़ोन आया कि उसके चाचा का निधन हो गया है और वह नागपुर से सीधे मेरे पास ही आएगी उसके बाद वह उनके घर जायेगीआने पर उसने बताया कि अब घर में कोई इतना भी नहीं है कि जाकर वहाँ इंसान बैठ कर नाश्ता करके निकल जाएअब ऐसे भाइयों के बारे में मैंने सोचना छोड़ दिया क्योंकि ये नाकारा लोगों को कौन अपनी बेटी देगा और किस मुँह से किसी को बताऊँ कि मेरे भाई से अपनी बेटी की शादी कर दीजियेवे करते कुछ ही नहीं हैबस अपने अपने पेट भरने का इंतजाम भर किसी तरह से कर लेते हें
बस यही कहते बनता है कि चिराग तले अँधेरा ऐसे ही होता है कि पिता ने तो चार बेटे पैदा किये कि वंश का नाम चलेगा और बेटों ने नाम जीते जी डुबो दिया

13 टिप्‍पणियां:

Pallavi ने कहा…

theek hi kahaa aapne aaj bhi logon men beton se vansh chaltaa hai ki manskitaa hati nahi hai aur jo kissa aapne likha use dekhte hue bhi yahi lagtaa hai ki shaayd kabhi hate gi bhi nahi..... jaane kab log betiyon ka muly samjhenge... saarthak evam sandeshmayi rachaa...

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

मुझे आज तक समझ नहीं आया की कौन से वंश की बात करते हैं हम ? नाम अपने कर्मों से होता है न कि बेटों से ...

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

पुत्र और बेटे कह कर रिश्तों को बदनाम करना ठीक नहीं। आजकल तो लड़के होते हैं जो सारा काम लड़के ही पूरा करते हैं।

expression ने कहा…

पता नहीं कब बदलेगी सोच...........

हर बेटा बुरा नहीं होता...और बेटियाँ भी लोभी हो गयीं है आजकल...इंसान होता है अच्छा या बुरा....

सार्थक लेख रेखा जी.
सादर.

रचना ने कहा…

oh !!!

Udan Tashtari ने कहा…

ek se ek kahaniyan har taraf dekhne milti hain.

anju(anu) choudhary ने कहा…

आज भी वही सवाल हैं .....लड़का ही क्यों ????????

औरत ही औरत की सबसे बड़ी दुश्मन क्यों?

रेखा श्रीवास्तव ने कहा…

sangeeta jee ke mat se sahmat hoon, apane karmon se naam hota hai. mahatma gandhi apane aap men ek naam hain unake beton aur poton ko koi nahin janata ki ve unaka naam roshan karenge.
indira gandhi se jawaharlal nehru ka naam jana jata hai ve bhi beti hi thee.

रेखा श्रीवास्तव ने कहा…

shastriji,

main apane samaj kee manasikata kee bat kar rahi hoon, jo ki betiyon ke hone par bhi vansh ke liye ladaka ka hona jaroori manate hain. bete ya putra sabhi aise hon aisa nahin kah rahi main.

रेखा श्रीवास्तव ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
वन्दना ने कहा…

काश आज भी लोग समझ सकें कि जरूरी क्या है ?सबसे जरूरी है सही पालन पोषण और शिक्षा फिर चाहे बेटा हो या बेटी………ना जाने कब बदलेगी मानसिकता।

mridula pradhan ने कहा…

sahi soch....sahi shikcha hi sudhar la sakti hai....

Ashish Banswani ने कहा…

Aap ekdum sahi kah rahi hain.
i have a only daughter.
no need of other child and always thinking to give her better future.

Ashish Banswani,
Birla Sunlife Insurance, Orai