मंगलवार, 8 मार्च 2011

मुसीबत में साया भी साथ नहीं देता !

कल शाम आते वक्त एक झोपड़ी में आग लगी थीउसकी गृहस्वामिनी चिल्ला रही थी कि कोई मेरेघर को बचा ले लेकिन ईंटों के ऊपर रखे बांस के टट्टर के ऊपर पड़ी पालीथीन से ढके घर को कौन बचा सकताथा? घर के बाहर एक चारपाई पर चिप्स सूख रहे थेपालीथीन गल गल कर नीचे गिर रही थी ऐसे सब कुछ स्वाहाहोना तय ही थाकुछ पल रुकने के लिए मन हुआ लेकिन वहाँ कुछ भी नहीं हो सकता था बस शुक्र इतना था किउसके बच्चे सब बाहर थेफिर उस जले हुए घर के रहने वालों कि मनःस्थिति मैं बखूबी समझ रही थी
घर आते आते दिमाग में जाने कितने वर्षों पहले का घटनाक्रम घूमने लगाअपने बचपन की बात मैंउस समय नवें में पढ़ रही थीहमारा घर काफी ऊंचाई पर थाएक शाम जब पापा घर चुके थे तो दूर से आगकी लपटें दिखाएँ दीं और पापा तुरंत ही उस तरफ भागे जैसे कि उनको कोई अहसास थाजब काफी देर तक पापा आये तो भैया को भेजा गयावहाँ हमारी ही advertising agency थी और हमारी ही दुकान में आग लग गयीथी और बहुत कुछ जल कर रख हो गया थावहाँ पर सब कुछ ऐसा ही होता है कि आग पकड़ लेलोगों ने पानीडाल कर बुझाया भी लेकिन कुछ भी ऐसा था कि दुबारा काम सके
पापा घर गए हम सब एक ही आवाज में बोले - 'अब क्या होगा?' पापा ने हम सब को अपने सेचिपका लिया और बोले - 'कुछ नहीं, फिर सब ठीक हो जायेगा।' उनका ये विश्वास हमें भी संबल दे गयासब कुछतो ख़त्म हो चुका थाकितने काम पूरे रखे थे, कितने अभी अधूरे थे और कितना सारा सामान
होली आने ही वाली थीसंयुक्त परिवार में सभी त्यौहार एक साथ ही मनाये जाते थेदोनों चाचानौकरी बाहर करते थे लेकिन पर्वों पर सपरिवार यही आते और त्यौहार मनाया जाताढेरों पकवान बनाये जातेऔर के हफ्ते बाद जब सब जाते तो सबको बाँध कर दिए जातेहमने सोचा कि हर बार तो पापा ही सब करते हैंइस बार चाचा लोग कर लेंगे लेकिन ये क्या? होली के दिन पहले एक चाचा आये और बोले हम तो नहीं पायेंगेकोई परेशानी हो तो ये पैसे रख लीजिये उन्होंने १०० रुपये माँ को दिएदूसरे चाचा ने आने की जरूरत ही नहींसमझीहाँ दादी के लिए खबर भेज दी कि आना चाहें तो होली में यहाँ जाएँ
दादी न्याय प्रिय थी - 'तुम लोगों ने क्या समझा? सिर्फ यहाँ आराम और ऐश करने की जगह है कि चले आये त्यौहार मनाने करने वाले तो कर ही रहे हैंजब घर में आग लगी होती है तो माँ अपने बच्चों को बचा हीलेती है चाहे वो खुद क्यों जल जाए।'
वह होली दादी ने पूरा खर्च करके मनाई और वैसे ही जैसे कि मनाते थेउस समय बहुत छोटी थीलेकिन संवेदनशील तो तब भी थीतभी जाना था कि मुसीबत में साया भी साथ छोड़ देता हैअगले साल फिर सबआये लेकिन एक दरार जो पड़ गयी वो दिल से ख़त्म हुई

16 टिप्‍पणियां:

Udan Tashtari ने कहा…

ऐसा ही होता है..मैने एहसासा है वक्त और मुसीबतों में अपनों का व्यवहार..

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुन्‍दर प्रस्‍तुति ,सच कहा आप ने जब एक बार दरार पड जाये रिश्तो मे तो कभी नही भरती

रचना दीक्षित ने कहा…

रिश्तों कि पहचान मुश्किल में ही होती है. सुंदर प्रस्तुति.

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

सही है. ऐसी कठिन परिस्थिति में ही लोगों की पहचान होती है.

शोभना चौरे ने कहा…

सुख के सब साथी दुःख में न कोय |
दुःख के समय दिखावा करने तो सब अ जाते है किन्तु मन से कोई साथ नहीं होता |

ज्ञानचंद मर्मज्ञ ने कहा…

आद. रेखा जी,
जीवन का हर यथार्थ कड़वा है ! आपने उस सच्चाई को शब्द दिये हैं जिसे हम सब भोगने पर मज़बूर हैं ! काश,ये दुनिया ऐसी नहीं होती !
आपका लेख जीवन की विद्रूपताओं से लड़ने की शक्ति देता है !
आभार !

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

shayad yahi jindagi ka sabse dukhad pahloo hai...apne jab dukh me saath chhodte hain..!

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

अपनो की पहचान मुश्किल में ही होती है ....बहुत संवेदनशील प्रस्तुति

दिगम्बर नासवा ने कहा…

Shayad isliye hi kahte hain ki rishte kachhe dhaage ki tarah hote hain ... tootne nahi chaahiyen nahi to gaanth padh jaati hai ...

कानपुर ब्लोगर्स असोसिएसन ने कहा…

संवेदन शील प्रस्तुति

निर्मला कपिला ने कहा…

खुशी गमी तकदीर की भोगे खुद किरदार
बुरे वक्त मे हो नही साथी रिश्तेदार
शुब्य्हकामनायें।

mridula pradhan ने कहा…

aankhen bhar gayeen.....
वक्त और मुसीबतों में अपनों का व्यवहार......
humen bhi andaza hai....kitna dukh detin hain....bhawbhini abhivyakti.

Poorviya ने कहा…

yeh apno ki bhasa thee.....

jai baba banaras............

muskan ने कहा…

आपको एवं आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनायें!

muskan ने कहा…

आपको एवं आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनायें!

अरुण चन्द्र रॉय ने कहा…

बहुत सुन्‍दर प्रस्‍तुति ,सच कहा आप ने जब एक बार दरार पड जाये रिश्तो मे तो कभी नही भरती