मंगलवार, 12 अप्रैल 2011

कैसे कैसे मन?

कल एक लघु कथा पढ़ी अखबार में - पिता के घनिष्ठ मित्र की मृत्यु पर बेटा टीवी बंद नहीं कर रहा हैक्योंकि मैच रहा हैपिता ने सोचा की शायद कल ये होगा कि मेरी मृत्यु पर भी टीवी बंद नहीं होगा अगर ऐसेही कोई कार्यक्रम आता हुआ
ये तो नई पीढ़ी को हम दोष दे रहे हैं लेकिन अगर हम ही या हम से भी कुछ साल पहले वाली पीढ़ी कुछऐसा ही करे तो क्या हम विश्वास करेंगे ? शायद नहीं क्यों हम समझते हैं कि हम और हमारी पीढ़ी अधिकसंवेदनशील और सामाजिक रही है , रही नहीं है आज भी है लेकिन इसके भी कुछ अपवाद जब देखने को मिलजाते हैं तो शर्म तो ही जाती है.
हमारे एक बहुत ही करीब के पारिवारिक सदस्य के साढू भाई बीमार थे और हम लोग उनके घर नहींपहुँच पा रहे थेअभी जवान थे उनके साढू दो छोटे छोटे बच्चे हैंहम दोनों लोग बैठे ही थे कि फ़ोन आया - उनकीमृत्यु हो गयीउनकी पत्नी रोने लगी और पतिदेव एकदम से बेहाल नजर आने लगे कि दिल बैठा जा रहा है, मेरेपति ने कहा कि मैं अभी दवा लेकर देता हूँ आप ले लीजिये आराम जायेगावे जल्दी से गए और दवा लेकरआये उनको खिलाईफिर वह सज्जन बोले कि मैं तो जा नहीं सकता हूँ, ऐसा करो कि रेखा को यही रहने दो औरतुम अपनी भाभी को अस्पताल छोड़ आओमेरे पति उनकी पत्नी को लेकर चले गएमैं वही रही पत्नी के जाते हीवह उठे और किचेन में गए वहाँ से उन्होंने कुछ खाने को लिया और खायामेरी तो ये समझ नहीं रहा था कि येइंसान थोड़ी देर पहले लग रहा था कि साढू के सदमे से कहीं कुछ हो जाएखा पी कर बोले - थोड़ी चाय बना दोमैंने चाय बना कर दीचाय पीकर वह हमसे बोले - "टीवी तो देखा जा सकता है।"
मुझे लगा कि ये कुछ और कह रहे हैं और मुझे सुनाई कुछ और दे रहा है , लेकिन बोल तो वह वहीरहे थेमैं क्या कहती? मैंने कह दिया - क्यों नहीं अगर आप देखना चाहें तो खोल लीजियेवह वही पड़े दीवान परलेट गए और टीवी देखने लगेअब मैं यह नहीं समझ पा रही थी कि ये जो थोड़ी देर पहले तबियत घबराने कानाटक कर रहे थे या फिर वाकई ऐसा कुछ थाया फिर अपनी पत्नी को दिखाने के लिए ऐसा कुछ कर रहे थेजबपतिदेव वापस आये तो चलने के लिए कहाबोले हो तो तुम लोग आज यही रुक जाओ वह तो अब वापस क्या पाएंगी? मैं अकेला रात बिरात कोई समस्या हो गयी तो कोई देखने वाला नहीं
मुझे इतना तेज गुस्सा रहा था की मैं बता नहीं सकतीमैंने अकेले में इनसे कहा कि घर चलतेहैं अगर कोई प्रॉब्लम होती भी है तो भाई साहब फ़ोन कर देंगे हम लोग जायेंगेफिर सुबह तो हम लोग भीउनके घर जायेंगे ही तो यहाँ से कैसे जाना होगा?
घर आकर मैंने इनको सारी बात कही. तो इन्होने बताया कि हाँ वे ऐसे ही हैं . इनको अपने और सिर्फअपने आराम और सुख से मतलब है बाकी किसी से नहीं. फिर मुझे यही लगता रहा कि क्या इंसान इतनाबेमुरव्वत हो सकता है

5 टिप्‍पणियां:

shikha varshney ने कहा…

ऐसे उदाहरण एक ढूंढो हजार मिलते हैं रेखा जी ! और हर पीढ़ी में मिलते हैं.
क्या किया जा सकता है अफ़सोस के अलावा.

sm ने कहा…

सच लिखा है कटु सत्य

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

सच ऐसे लोग केवल अपने लिए जीते हैं ...

Dr Varsha Singh ने कहा…

सार्थक चर्चा के लिए हार्दिक आभार....

रजनी मल्होत्रा नैय्यर ने कहा…

aisi ghatnayen aaj kal har tarf mil rahi jisse ye sabit jarur ho raha ki ab manvta asmvedanshil ho rahi ....